2

हकीमे उम्मत ए मुस्लिमां की आंखें बंद मुसलमानों में गम की लहर

बिसमिल्ला हिर्रहमानिर्रहीम

इनतेहाई ग़म अंगेज़ ख़बर मौसूल हुई है कि ख़ल्के ख़ुदा के बे लौस ख़िदमत गुज़ार हकीमे उम्मत मौलाना ङॉ सय्यद कल्बे सादिक़ साहब क़िबला का देहान्त हो गया।

इन्ना लिल्लाहे व इन्ना इलैहे राजेऊन

मरहूम ख़ानदाने इज्तेहाद की मशहूर व मारूफ इल्मी शख्सि़यत थे।

आप की दीनी,अज़ाई,तालीमी,फ़लाही और समाजी ख़िदमात नाक़ाबिले फ़रामोश और आप के बाक़ेयातुस सालेहात मे शामिल है।

मरहूम तनज़ीमुल मकातिब के मुख़लिस और बानिए तनज़ीम मौलाना सय्यद गुलाम अस्करी ताबे सराह का ख़ास एहतेराम फ़रमाते थे और इदारे की ख़िदमात को सराहते थे।

आप की रेहलत एक अहद का ख़ात्मा है।
हम ख़ादमाने तनज़ीमुल मकातिब इस ग़म मे सोगवार और सोगवारे मिल्लत ख़ुसूसन कुन्बे की ख़िदमत मे ताज़ियत अर्ज़ है।

बारगाहे माबूद मे दुआ है की रहमत व मग़फ़ेरत नाज़िल फ़रमाए,जवारे अहलेबैत(अ.स.)मे बलंद दरजात अता फ़रमाए।

वस सलाम
मौलाना सय्यद सफ़ी हैदर ज़ैदी
महासचिव तनज़ीमुल मकातिब लखनऊ

Comments(2)

  1. Reply
    Mesam says:

    Inna lillah wa inna ilaihe rajeoon

  2. Reply
    سید علی ہاشم عابدی says:

    اللہ مغفرت فرماے

Post a comment